Personal Homepage

Blog

The World as I see it

अपनी माटी

indian-national-flag-images जहाँ सूर्य की पहली किरण से हर सवेरा अपनी माँग सजाता; जहाँ अनंत नील गगन असीम समुद्र में लय हो जाता; जहाँ लहराते हरे खेतों पर स्वर्णिम सरसों मुकुट चढ़ाती; सब रंगों से सजी हुई सतरंगी है वह अपनी माटी।

जहाँ ईश्वर को साथ पुकारें मस्जिद की अजान मंदिर की घंटी; जहाँ प्रभात का स्वागत करती कोयल की वह मधुर बोली; जहाँ आज भी रास रचाती राधा की पायल कान्हे की बंसी; अमर रागों को सुनती-गाती सुरीली है वह अपनी माटी।

आज वही सूरज वही गगन वही कोयल है पुनः पुकारती; दिल में लाखों प्रश्न लिए आर्य-पुत्र को है ललकारती। गीत शौर्य का गाते हुए बलिदानों की याद दिलाती महापुरुषों ने देखा जो सपना वही स्वप्न है पुनः दिखाती

बहुत कुछ है पाया; बहुत कुछ है पाना लम्बे कठिन इस मार्ग पे तुम कहीं थक न जाना। मार्ग कठिन है; देखो देश कहीं भटक न जाए कीचड़ से कली फूटी है; बिन खिले सूख जाए।

Happy Republic Day to all Indians... :)

Translation is not possible (yet again)... However, I present the Roman transliteration for some of my dear readers...

Jahaan surya ki pratham kiran se Har sawera apni maang sawaarta Jahan anant neel gagan Aseem samudra mein lay ho jaataa Jahaan lehraate hare kheton par Swarnim sarson mukut chadhaati Sab rangon se saji hui Sanrangi hai wah apni dharti

Jahaan prabhaat ka swaagat karti Koyal ki wah madhur boli Jahaan ishwar ko saath pukaaren Masjid ki ajaan, mandir ki ghanti Jahaan aaj bhi raas rachaaye Raadhaa ki paayal, Kanhe ki bansi Amar raagon ko sunti gaati Surili hai wah apni maati

Aaj wahi suraj, wahi gagan Wahi koyal hai punah bulaati Dil mein laakhon prashn liye Arya putra ko hai lalkaarti Geet shaurya ka gaate hue Balidaanon ki yaad dilaati Maha purushon ne dekha jo sapna Wahi swapn hai punah dikhaati

Bahut kuchh hai paayaa, bahut kuchh hai paana Lambe kathin is maarg pe; kahin tum thak na jaana Marg kathin hai, dekho desh kahin dhatak na jaaye Keechad se kali phooti hai, bin khile sookh na jaaye.